debit cart or cradit cart में अंतर

Debit cart (ATM Cart ) or cradit cart  में अंतर

दोस्तो स्वागत है आप सबका हमारी इस वेबसाइट पर तो आज हम आपको बताने जा रहे है की क्रेडिट कार्ट और और डेबिट कार्ट में क्या अंतर (debit cart (ATM Cart ) or cradit cart  में अंतर )

जैसा की आप सब लोग जानते है की हम अपने पैसे या तो किसी को उधर दे देते है या फिर बैंक में जमा कर देते है इससे हमें दो फायदे होते है एक तो हमारे पैसे चोरी होने से बचते हे और एक हमारे पैसे सुरछित रहते है बैंक में जमा करने के लिए सबसे पहले हमें खाता खुलबाना होता है जिसके लिए हमें रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) के नियमों के तहत बैंक में खाता खोलने के लिए आधार और पैन जरूरी है
 
  • तीन पासपोर्ट साइज फोटो (Passport Size Photo)
  • आधार कार्ड (Aadhaar Card)
  • ड्राइविंग लाइसेंस (Driving License)
  • वोटर आई-डी कार्ड (Voter ID Card)
  • बिजली बिल (Electricity Bill)
  • टेलीफोन बिल (Telephone Bill)
  • इसमें दोस्तो आपको एक चीज का ध्यान रखना होता है की यदि आप खाता खुलबाने के साथ ही डेबिट कार्ट (ATM Cart ) लेना चाहते हो तो इसके लिए आपको फॉर्म भरते समय उसमे आपको डेबिट  कार्ट(ATM Cart ) के लिए पूछेगा तो आपको उसमे (yes) पर टिक लगाना होता है | यहाँ पर आपको फॉर्म पूरा भर के जमा करना होता है जमा करने के 8 से 10 दिन अंडर उस बैंक में खता खुल जाता है और आपका डेबिट कार्ट (ATM Cart ) भी आपके घर पर आ जाता है
  • यहाँ  आप ये सोच रहे होगें की यहाँ पर तो हम आपको क्रेडिट कार्ड और डेबिट कार्ट में अंतर बताने  वाले थे लेकिन बीच में ये वकवास कैसे शुरू कर दी तो हम आपको बता दे की क्रेडिट कार्ट और डेबिट कार्ट में अंतर जानने से पहले बैंक के बारे में जानना जरुरी है और अकाउंट खोलने के बारे में जानना बहुत जरुरी है |
  • दोस्तो जब हम बैंक में पैसे जमा करते है तो जब कभी भी जरूरत पड़ने पर निकालने जाते है तो हमारे पास तो आप्शन होते है एक तो बैंक जाकर के उन पेसो को मिकाले और दूसरा आप्शन है की अगर  आपके पास डेबिट कार्ट है तो उसके सहारे आप एटीएम से निकाल सकते हो  | लेकिन आप ये सब जब तक ही कर सकते हो जब आपके पास पेसे होंगे या आपके अकाउंट में पेसे हों और अगर पेसे नही है तो हमें या तो किसी साहूकार या फिर बैंक से लोन ले सकते हो अगर बैंक से या फिर किसी से उधार लेते हो आपको उस सब की व्याज देनी पड़ती है जो की अछे खासे इन्शान को बर्बाद कर देता है और वो इन्शान लोन पटाते पटाते खुद भाहू ही ज्यादा कर्ज में डूब जाता है |
  • इन सब चीजो को एक मिडिल क्लास फॅमिली या फिर गरीब व्यक्ति शिकार होता है|
  • बस इन सब चीजो को देखते हुए ही बैंक भी घाटे में जाने लगी थी क्युकी जब कभी भी कोई गरीब व्यक्ति बैंक से लोन लेता था तो  उसकी आर्थिक स्थिति सही न होने के कारण वो लोन चूका नही पाता था तो उसके पास एक ही आप्शन बचता था सिर्फ और सिर्फ आत्महत्या जिस बजह से बैंक का लोन डूब जाता था और इस तरीके से बैंक घाटे में चली जाती है|
  •  इन सब चीजो को ध्यान में रखते हो बैंक ने एक एसा तरीका निकाला जिसमे कोई भी व्यक्ति को पेसे ले  सके वो भी बिना किसी लोन के जिससे वह इन्सान अपना काम निकल सके और बैंक का भी कोई नुकसान न हु इन सब चीज को ध्यान में रखते हुए क्रेडिट कार्ट फाइनेंसियल संस्थानो द्वारा जारी किया गया प्लास्टिक का पेमेंट मेथड है जिसमे बिना केश के भी हम एक व्यक्ति से दुसरे व्यक्ति को पेसे दे सकते है लेकिन ये सब एक लिमिट के साथ ही होता है एक साधारण इन्शान को करीब 25000 तक का लोन मिल जाता है वो भी बिना किसी व्याज के जिसमे आपको 40 दिन तक कोई भी व्याज देनी की जरूरत नही पड़ती अगर आप 40 दिन के अंदर आप पुरे पेसे वापस कर देते है तो कोई व्याज नही देना होता है | अगर आप पेसे वापस नही करते है तो आपको बहुत भारी भरकम व्याज चुकाया जाना पड़ सकता है
  •    तो दोस्तों अब हमें आशा हे की आप समज चुके होंगे की बैंक में खाता केसे खोलते हे  या फिर क्रेडिट कार्ट और डेबिट कार्ट क्या होता है 
  • बस क्रेडिट कार्ट और डेबिट कार्ट दोनों ही प्लास्टिक मनी है  जिसमे डेबिट कार्ट को तो हम अपने पेसो के लिए इस्तेमाल कर सकते है और क्रेडिट कार्ट को हम बैंक के पेसो के लिए इस्तेमाल कर सकते है |
 

Leave a Reply